Friday, April 22, 2011

Muslims malign Hinduism, threaten Hindus in Sarberia

Muslims malign Hinduism, threaten Hindus in Sarberia: "

Atrocious incident in Sarberia depicts how Hindus are living under the cloak of secularism in Bengal. The situation is getting worse, each day it passes and the reluctance of administration to shelter peace-loving and hapless Hindus adds salt to the gaping wound.

The choice is getting clearer. Either there would be a new exodus of Hindus from Bengal to nowhere or they must battle against Islamic zealots.

To know more log in:


Only one chance is enough for Muslims to malign Hinduism. This was heard for days but its true form was perceived at Fakirtokia PashuHat, in Sarberia, P.S. Jibantala (South 24 Paraganas) on Poila Baisakh (15 April 2011). Islamic hardliners organized an all-night religious congregation on that day attended by no less than 500 people along with Maulanas (Islamic teachers). And one Muslim Maulabi, named Sheikh Zakir Hossain, left no stone unturned to make use of it.

Sheikh Zakir Hossain defiled Hindu Gods and Goddesses along with sanctified Hindu places at random. Goddess Kali was stated as nude and lusty woman, roaming with the head of Shiva. He also said Shiva is worshipped by Hindus only be severing his Linga. Indeed all these led to a great laughter among the Muslim crowd.

However, there was another scene in house (adjoining to the congregation) of Madan Sardar, an Adivasi, beautified for Sri Sri Narayan Puja. Microphone was being used as part of the Puja, enough to infuriate the army of Islamic zealots. The microphone was stopped forcefully by them and when women assembled in the house protested against this ghastly incident, they were threatened.

Muslim criminals warned that women would be raped in broad daylight if anyone dared to protest and also to go to the police station to lodge a complaint. It is to be noted that the criminals were outsiders and owing to fear, there was no protest any more. Hindus are in terrible fear these days.

What do you advise them to do?

Kashmiri Pandits must become hawkish to procure citizenship in Kashmir

Kashmiri Pandits must become hawkish to procure citizenship in Kashmir: "

Whatever may be the pre-militancy harmony between the two leading communities in Kashmir, severe atrocities and brutal exodus of Hindus has been the reality from the end of 80s. And neither there has been any repentance nor has there been any approach from the Muslim politicians of the valley to take Hindus back.

Tens of thousands of demonstrations and seminars on persecution of Kashmiri Hindus have come about leading to no result. Time, therefore, is ripen for Kashmiri Pandits to plunge into a rigorous struggle – battle for life or death.

To know more log in:


Tension mounts in Ottapalam - Bajrangdal leaders Mother and sister attacked by Popularfront Terrorists

Tension mounts in Ottapalam - Bajrangdal leaders Mother and sister attacked by Popularfront Terrorists

Ottapalam: Popular front terrorists created havoc in Ottapalam while Police forces remained as mere spectators. Following the attack on Bajrandal Jilla samyojak Renjith's and his mother's sisters house was completely destroyed by Popular front terrorists. Group of Shameless Popular front Jihadi terrorists attacked Renjith's mother Ammini(50) and her sister Parvathy (40). Both of them are admitted in hospital. The terrorists after destroying the house and utensils snatched the gold chains as well from them.Police registered case against Popularfront terrorists Sulfikar and Firoz along with 20 others in connection with the attack on Renjith's house.

Following the attack which targeted Bajrang dal leader, Sangh Pariwar organisations called harthal on Thursday. Retaliatory attacks are reportedly still going on in the area.SDPI terrorists attacked Sangh Pariwar protest march yesterday which resulted in street fight between terrorists and Nationalists.

Fwd: Lokpal bill

Fwd: Lokpal bill: "

S. Kalyanaraman to bcc: me

show details 9:19 PM (59 minutes ago)

Forwarded message ———-

From: Brig V A Subramanyam <>

Date: Thu, Apr 21, 2011 at 9:11 PM

Subject: Lokpal bill


Maybe a Reapeat for some … just to remind ourselves …

If you did not know why the politicians

and bureaucrats don’t want a LOKPAL BILL here’s why.

An Interesting blog by Pritish Nandy!!!

I was an MP not very long ago. I loved those six years. Everyone called me sir, not because of my age but because I was an MP. And even though I never travelled anywhere by train during those years, I revealed in the fact that I could have gone anywhere I liked, on any train, first class with a bogey reserved for my family. Whenever I flew, there were always people around to pick up my baggage, not because I was travelling business class but because I was a MP. And yes, whenever I wrote to any Government officer to help Some one in need, it was done. No, not because I was a journalist but because I was an MP.

The job had many perquisites, apart from the tax free wage of Rs 4,000. Then the wages were suddenly quadrupled to Rs 16,000, with office expenses of Rs 20,000 and a constituency allowance of Rs 20,000 thrown in. I could borrow interest free money to buy a car, get my petrol paid, make as many free phone calls as I wanted. My home came free. So did the furniture, the electricity, the water, the gardeners, the plants. There were also allowances to wash curtains and sofa covers and a rather funny allowance of Rs 1,000 per day to attend Parliament, which I always thought was a MP’s job in the first place! And, O yes, we also got Rs 1 crore a year (now enhanced to Rs 2 crore) to spend on our constituencies. More enterprising MPs enjoyed many more perquisites best left to your imagination. While I was embarrassed being vastly overpaid for the job I was doing, they kept demanding more.

Today, out of 543 MPs in Lok Sabha, 315 are crorepatis. That’s 60%. 43 out of the 54 newly elected Rajya Sabha MPs are also millionaires. Their average declared assets are over Rs 25 crore each. That’s an awfully wealthy lot of people in whose hands we have vested out destiny. The assets of your average Lok Sabha MP have grown from Rs 1.86 crore in the last house to Rs 5.33 crore. That’s 200% more. And, as we all know, not all our MPs are known to always declare all their assets. Much of these exist in a colour not recognised by our tax laws. That’s fine, I guess. Being a MP gives you certain immunities, not all of them meant to be discussed in a public forum.

If you think it pays to be in the ruling party, you are dead right: 7 out of 10 MPs from the Congress are crorepatis. The BJP have 5. MPs from some of the smaller parties like SAD, TRS and JD (Secular) are all crorepatis while the NCP, DMK, RLD, BSP, Shiv Sena, National Conference and Samajwadi Party have more crorepatis than the 60% average. Only the CPM and the Trinamool, the two Bengal based parties, don’t field crorepatis. The CPM has 1 crorepati out of 16 MPs; the Trinamool has 7 out of 19. This shows in the state-wise average. West Bengal and Kerala have few crorepati MPs while Punjab and Delhi have only crorepati MPs and Haryana narrowly misses out on this distinction with one MP, poor guy, who’s not a crorepati.

Do MPs become richer in office? Sure they do. Statistics show that the average assets of 304 MPs who contested in 2004 and then re-contested last year grew 300%. And, yes, we’re only talking about declared assets here. But then, we can’t complain. We are the ones who vote for the rich. Over 33% of those with assets above Rs 5 crore won the last elections while 99.5% of those with assets below Rs 10 lakhs lost! Apart from West Bengal and the North East, every other state voted for crorepati MPs. Haryana grabbed first place with its average MP worth Rs 18 crore. Andhra is not far behind at 16.

But no, this is not enough for our MPs. It’s not enough that they are rich, infinitely richer than those who they represent, and every term makes them even richer. It’s not enough that they openly perpetuate their families in power. It’s not enough that all their vulgar indulgences and more are paid for by you and me through back breaking taxes. It’s not enough that the number of days they actually work in Parliament are barely 60 in a year. The rest of the time goes in squabbling and ranting. Now they want a 500% pay hike and perquisites quadrupled. The Government, to buy peace, has already agreed to a 300% raise but that’s not good enough for our MPs. They want more, much more.

And no, I’m not even mentioning that 150 MPs elected last year have criminal cases against them, with 73 serious, very serious cases ranging from rape to murder. Do you really think these people deserve to earn 104 times what the average Indian earns?


Swamy Ramdev sitting on Satyagrah on Ram Lila Maidan on 4th JUNE 2011 till death.

Swamy Ramdev sitting on Satyagrah on Ram Lila Maidan on 4th JUNE 2011 till death.: "

S. Kalyanaraman

Only way to prevent it is impose emergency in India.

4th JUNE 2011

Swami Ji will Anshan on Ram Lila maidan and see the Magic now.Congress ki to laag gayiiii…….Be ready to break Parliament house and put it into dust.Whole nation will come out from their home.

Running bogus NGO come and watch the show.Time to remove all British stuff from India.Last time we were more then 1 Lakh and this time see the Magic.

bale Bale Bale Bale…We will also fight with him and die with him.

दिल्ली चलो ।दिल्ली चलो ।

जागने का वक्त आ गया

परम पूज्य स्वामी रामदेवजी अनिश्चित कालीन आनशन पर बैठेंगे :

राष्ट्रनिष्ठ गुरु बंधु / बहिन

भारत स्वाभिमान आंदोलन की क्रमबद्ध मुहिम मे 30 जनवरी, 27 फरवरी, 23 मार्च के कार्यक्रमों की अभूतपूर्व सफलता के पश्चात आंदोलन निर्णायक मोड पर है । सत्य की इस लड़ाई में आपका सहयोग अपेक्षित है ।

4 जून 2011 को दिल्ली के रामलीला मैदान में स्वामीजी स्वयं अनिश्चित कालीन आनशन पर बैठेंगे । उनका साथ देंगे भारत स्वाभिमान के जांबाज़ कार्यकर्ता शिष्य । इस आंदोलन मे अपना सहयोग दे ।

सहयोग हेतु रजिस्ट्रेशन कराने के लिए यहाँ क्लिक करे

- मुख्य केंद्रीय प्रभारी डॉ. जयदीप आर्य, राकेश कुमार , बहिन सुमन

डाऊनलोड करे सत्याग्रह प्रारूप सत्याग्रह निर्देश

America, sleep tight! The foxes are guarding the henhouse.

America, sleep tight! The foxes are guarding the henhouse.: "Well, boys and girls, today the fox is guarding the hen house. The wolves will be herding the sheep! Mr. Obama who has appointed two devout Muslims to homeland security posts. Obama and Janet Napolitano appointed Arif Alikhan, a devout Muslim, as Assistant Secretary for Policy Development. DHS Secretary Janet Napolitano swore-in Kareem Shora, a [...]"

कार्टून: १७ % वाले .....

कार्टून: १७ % वाले .....: "common man cartoon, poorman, poverty cartoon, indian political cartoon, corruption in india
Cartoon by Kirtish Bhatt (

रामदेव Vs अण्णा = “भगवा” Vs “गाँधीटोपी सेकुलरिज़्म”?? (भाग-2) ... Anna Hazare, Jan-Lokpal Bill, Secularism in India (Part-2)

रामदेव Vs अण्णा = “भगवा” Vs “गाँधीटोपी सेकुलरिज़्म”?? (भाग-2) ... Anna Hazare, Jan-Lokpal Bill, Secularism in India (Part-2):

यह कहना मुश्किल है कि “झोलाछाप” सेकुलर NGO इंडस्ट्री के इस खेल में अण्णा हजारे खुद सीधे तौर पर शामिल हैं या नहीं, परन्तु यह बात पक्की है कि उनके कंधे पर बन्दूक रखकर उनकी “छवि” का “उपयोग” अवश्य किया गया है… चूंकि अण्णा सीधे-सादे हैं, इसलिये वह इस खेल से अंजान रहे और अनशन समाप्त होते ही उन्होंने नरेन्द्र मोदी और नीतीश कुमार की तारीफ़ कर डाली… बस फ़िर क्या था? अण्णा की “भजन मंडली” (मल्लिका साराभाई, संदीप पाण्डे, अरुणा रॉय और हर्ष मंदर जैसे स्वघोषित सेकुलरों) में से अधिकांश को मिर्गी के दौरे पड़ने लगे… उन्हें अपना खेल बिगड़ता नज़र आने लगा, तो फ़िर लीपापोती करके जैसे-तैसे मामले को रफ़ा-दफ़ा किया गया। यह बात तय जानिये, कि यह NGO इंडस्ट्री वाला शक्तिशाली गुट, समय आने पर एवं उसका “मिशन” पूरा होने पर, अण्णा हजारे को दूध में गिरी मक्खी के समान बाहर निकाल फ़ेंकेगा…। फ़िलहाल तो अण्णा हजारे का “उपयोग” करके NGOवादियों ने अपने “धुरंधरों” की केन्द्रीय मंच पर जोरदार उपस्थिति सुनिश्चित कर ली है, ताकि भविष्य में हल्का-पतला, या जैसा भी लोकपाल बिल बने तो चयन समिति में “अण्णा आंदोलन” के चमकते सितारों(?) को भरा जा सके।

जन-लोकपाल बिल पर होने वाले मंथन (बल्कि खींचतान कहिये) में संसदीय परम्परा का प्रमुख अंग यानी “प्रतिपक्ष” कहीं है ही नहीं। कुल जमा दस लोग (पाँच-पाँच प्रतिनिधि) ही देश के 120 करोड़ लोगों का प्रतिनिधित्व करेंगे… इसमें से भी विपक्ष गायब है यानी लगभग 50 करोड़ जनता की रायशुमारी तो अपने-आप बाहर हो गई… पाँच सत्ताधारी सदस्य हैं यानी बचे हुए 70 करोड़ में से हम इन्हें 35 करोड़ का प्रतिनिधि मान लेते हैं… अब बचे 35 करोड़, जिनका प्रतिनिधित्व पाँच सदस्यों वाली “सिविल सोसायटी” करेगी (लगभग एक सदस्य के हिस्से आई 7 करोड़ जनता, उसमें भी भूषण परिवार के दो सदस्य हैं यानी हुए 14 करोड़ जनता)। अब बताईये भला, इतने जबरदस्त “सभ्य समाज” (सिविल सोसायटी) के होते हुए, हम जैसे नालायक तो “असभ्य समाज” (अन-सिविल सोसायटी) ही माने जाएंगे ना? हम जैसे, अर्थात जो लोग नरेन्द्र मोदी, सुब्रह्मण्यम स्वामी, बाबा रामदेव, गोविन्दाचार्य, टीएन शेषन इत्यादि को ड्राफ़्टिंग समिति में शामिल करने की माँग करते हैं वे “अन-सिविल” हैं…

अब सोचिये, जन-लोकपाल की नियुक्ति समिति के “10 माननीयों” में से यदि 6 लोग सोनिया के “खासुलखास” हों, तो जन-लोकपाल का क्या मतलब रह जाएगा? नोबल पुरस्कार विजेता और मेगसेसे पुरस्कार विजेताओं की शर्त का तो कोई औचित्य ही नहीं बनता? ये कहाँ लिखा है कि इन पुरस्कारों से लैस व्यक्ति “ईमानदार” ही होता है? इस बात की क्या गारण्टी है कि ऐसे “बाहरी” तत्व अपने-अपने NGOs को मिलने वाले विदेशी चन्दे और विदेशी आकाओं को खुश करने के लिये भारत की नीतियों में “खामख्वाह का हस्तक्षेप” नहीं करेंगे? सब जानते हैं कि इन पुरस्कारों मे परदे के पीछे चलने वाली “लॉबीइंग” और चयन किये जाने वाले व्यक्ति की प्रक्रिया के पीछे गहरे राजनैतिक निहितार्थ होते हैं।

ज़रा सोचिये, एक माह पहले क्या स्थिति थी? बाबा रामदेव देश भर में घूम-घूमकर कांग्रेस, सोनिया और भ्रष्टाचार के खिलाफ़ माहौल तैयार कर रहे थे, सभाएं ले रहे थे, भारत स्वाभिमान नामक “संगठन” बनाकर, मजबूती से राजनैतिक अखाड़े में संविधान के तहत चुनाव लड़ने के लिये कमर कस रहे थे, मीडिया लगातार 2G और कलमाडी की खबरें दिखा रहा था, देश में कांग्रेस के खिलाफ़ जोरदार माहौल तैयार हो रहा था, जिसका नेतृत्व एक भगवा वस्त्रधारी कर रहा था, आगे चलकर इस अभियान में नरेन्द्र मोदी और संघ का भी जुड़ना अवश्यंभावी था…। और अब पिछले 15-20 दिनों में माहौल ने कैसी पलटी खाई है… नेतृत्व और मीडिया कवरेज अचानक एक गाँधी टोपीधारी व्यक्ति के पास चला गया है, उसे घेरे हुए जो “टोली” काम कर रही है, वह धुर “हिन्दुत्व विरोधी” एवं “नरेन्द्र मोदी से घृणा करने वालों” से भरी हुई है… इनके पास न तो कोई संगठन है और न ही राजनैतिक बदलाव ला सकने की क्षमता… कांग्रेस तथा सोनिया को और क्या चाहिये?? इससे मुफ़ीद स्थिति और क्या होगी कि सारा फ़ोकस कांग्रेस-सोनिया-भ्रष्टाचार से हटकर जन-लोकपाल पर केन्द्रित हो गया? तथा नेतृत्व ऐसे व्यक्ति के हाथ चला गया, जो “सत्ता एवं सत्ता की राजनीति में” कोई बड़ा बदलाव करने की स्थिति में है ही नहीं।

उल्लेखनीय है कि आंदोलन के शुरुआत में मंच पर भारत माता का जो चित्र लगाया जाने वाला था, वह भगवा ध्वज थामे, “अखण्ड भारत” के चित्र के साथ, शेर की सवारी करती हुई भारत माता का था (यह चित्र राष्ट्रवादी एवं संघ कार्यकर्ता अपने कार्यक्रमों में उपयोग करते हैं)। “सेकुलर दिखने के लालच” के चलते, इस चित्र में फ़ेरबदल करके अण्णा हजारे ने भारत माता के हाथों में तिरंगा थमाया और शेर भी हटा दिया, तथा अखण्ड भारत की जगह वर्तमान भारत का चित्र लगा दिया…। चलो यहाँ तक भी ठीक था, क्योंकि भ्रष्टाचार से लड़ाई के नाम पर, “मॉडर्न गाँधी” के नाम पर, और सबसे बड़ी बात कि जन-लोकपाल बिल के नाम पर “सेकुलरिज़्म” का यह प्रहार सहा भी जा सकता था। परन्तु भारत माता का यह चित्र भी “सेकुलरिज़्म के गंदे कीड़ों” को अच्छा नहीं लग रहा था, सो उसे भी साम्प्रदायिक बताकर हटा दिया गया और अब भविष्य में अण्णा के सभी कार्यक्रमों में मंच पर बैकग्राउण्ड में सिर्फ़ तिरंगा ही दिखाई देगा, भारत माता को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है (शायद “सिविल सोसायटी”, देशभक्ति जैसे “आउटडेटेड अनसिविलाइज़्ड सिम्बॉल” को बर्दाश्त नहीं कर पाई होगी…)।

दरअसल हमारा देश एक विशिष्ट प्रकार के एड्स से ग्रसित है, भारतीय संस्कृति, हिन्दुत्व एवं सनातन धर्म से जुड़े किसी भी चिन्ह, किसी भी कृति से कांग्रेस-पोषित एवं मिशनरी द्वारा ब्रेन-वॉश किये जा चुके “सेकुलर”(?) परेशान हो जाते हैं। इसी “सेकुलर गैंग” द्वारा पाठ्यपुस्तकों में “ग” से गणेश की जगह “ग” से “गधा” करवाया गया, दूरदर्शन के लोगो से “सत्यम शिवम सुन्दरम” हटवाया गया, केन्द्रीय विद्यालय के प्रतीक चिन्ह से “कमल” हटवाया गया, वन्देमातरम को जमकर गरियाया जाता है, स्कूलों में सरस्वती वन्दना भी उन्हें “साम्प्रदायिक” लगती है… इत्यादि। ऐसे ही “सेकुलर एड्सग्रसित” मानसिक विक्षिप्तों ने अब अण्णा को फ़ुसलाकर, भारत माता के चित्र को भी हटवा दिया है… और फ़िर भी ये चाहते हैं कि हम बाबा रामदेव और नरेन्द्र मोदी की बात क्यों करते हैं, भ्रष्टाचार को हटाने के “विशाल लक्ष्य”(?) में उनका साथ दें…।

भूषण पिता-पुत्र पर जो जमीन-पैसा इत्यादि के आरोप लग रहे हैं, थोड़ी देर के लिये उसे यदि दरकिनार भी कर दिया जाए (कि बड़ा वकील है तो भ्रष्ट तो होगा ही), तब भी ये हकीकत बदलने वाली नहीं है, कि बड़े भूषण ने कश्मीर पर अरुंधती के बयान का पुरज़ोर समर्थन किया था… साथ ही 13 फ़रवरी 2009 को छोटे भूषण तथा संदीप पाण्डे ने NIA द्वारा सघन जाँच किये जा रहे पापुलर फ़्रण्ट ऑफ़ इंडिया (PFI) नामक आतंकवादी संगठन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भी भाग लिया था, ज़ाहिर है कि अण्णा के चारों ओर “मानवाधिकार और सेकुलरिज़्म के चैम्पियनों”(?) की भीड़ लगी हुई है। इसीलिये प्रेस वार्ता के दौरान अन्ना के कान में केजरीवाल फ़ुसफ़ुसाते हैं और अण्णा बयान जारी करते हैं कि “गुजरात के दंगों के लिये मोदी को माफ़ नहीं किया जा सकता…”, परन्तु अण्णा से यह कौन पूछेगा, कि दिल्ली में 3000 सिखों को मारने वाली कांग्रेस के प्रति आपका क्या रुख है? असल में “सेकुलरिज़्म” हमेशा चुनिंदा ही होता है, और अण्णा तो वैसे भी “दूसरों” के कहे पर चल रहे हैं, वरना लोकपाल बिल की जगह अण्णा, 2G घोटाले की तेजी से जाँच, स्विस बैंकों से पैसा वापस लाने, कलमाडी को जेल भेजने जैसी माँगों को लेकर अनशन पर बैठते?

फ़िलहाल सिर्फ़ इतना ही…… क्योंकि कहा जा रहा है, कि जन-लोकपाल बिल बनाने में “अड़ंगे” मत लगाईये, अण्णा की टाँग मत खींचिये, उन्हें कमजोर मत कीजिये… चलिये मान लेते हैं। अब इस सम्बन्ध में विस्तार से 15 अगस्त के बाद ही कुछ लिखेंगे… तब तक आप तेल देखिये और तेल की धार देखिये… आये दिन बदलते-बिगड़ते बयानों को देखिये, अण्णा हजारे द्वारा प्रस्तावित जन-लोकपाल बिल संसद नामक गुफ़ाओं-कंदराओं से बाहर निकलकर “किस रूप” में सामने आता है, सब देखते जाईये…

दिल को खुश करने के लिये मान लेते हैं, कि जैसा बिल “जनता चाहती है”(?) वैसा बन भी गया, तो यह देखना दिलचस्प होगा कि लोकपाल नियुक्ति हेतु चयन समिति में बैठने वाले लोग कौन-कौन होंगे? असली “राजनैतिक कांग्रेसी खेल” तो उसके बाद ही होगा… और देखियेगा, कि उस समय सब के सब मुँह टापते रह जाएंगे, कि “अरे… यह लोकपाल बाबू भी सोनिया गाँधी के ही चमचे निकले…!!!” तब तक चिड़िया खेत चुग चुकी होगी…।

इसलिये हे अण्णा हजारे, जन-लोकपाल बिल हेतु हमारी ओर से आपको अनंत शुभकामनाएं, परन्तु जिस प्रकार आपकी “सेकुलर मण्डली” का "सो कॉल्ड" बड़ा लक्ष्य, सिर्फ़ जन-लोकपाल बिल है, उसी तरह हम जैसे “अनसिविलाइज़्ड आम आदमी की सोसायटी” का भी एक लक्ष्य है, देश में सनातन धर्म की विजय पताका पुनः फ़हराना, सेकुलर कीट-पतंगों एवं भारतीय संस्कृति के विरोधियों को परास्त करना… रामदेव बाबा- नरेन्द्र मोदी सरीखे लोगों को उच्चतम स्तर पर ले जाना, और इन से भी अधिक महत्वपूर्ण लक्ष्य है, कांग्रेस जैसी पार्टी को नेस्तनाबूद करना…। अण्णा जी, भले ही आप “बुरी सेकुलर संगत” में पड़कर राह भटक गये हों, हम नहीं भटके हैं… और न भटकेंगे…

Amaravati:Tribal community’s Temple destroyed, AITDC warns to start agitations

Amaravati:Tribal community’s Temple destroyed, AITDC warns to start agitations: "Tribal community’s temple on the land of Forest Department at Mahadevkhori was damaged by unknown miscreants. The above news has been published by Nagpur edition of ‘Dainik Lokmat’."

Union minister steps on the national flag

Union minister steps on the national flag:

Ranchi (Jharkhand): Union tourism minister Subodh Kant Sahay came under the scanner on Wednesday for showing disrespect to the tricolour. According to a few photographs published in some newspapers recently, Sahay can be seen stepping on to the national flag covering a table on a stage at an event to protest the anti-encroachment drive in the state.

The complaint filed by Satish Sinha, a Bharatiya Janata Party (BJP) worker in the court of chief judicial magistrate Sita Ram Sharma. Sinha said the disrespect was unwarranted from a man of the stature of a union minister. "I was hurt by the act of union minister," said Sinha adding that he has filed the case in individual capacity and not as a BJP worker.

Sahay was booked under section 2 of Prevention of insults to National Honour Act, 1971. The case is due for hearing on Thursday.