Friday, November 27, 2009

Rising From The Rubble?

  • tags: no_tag


      Senior Journalist

    • AFTER DECEMBER 6, 1992, the Sangh Parivar and the BJP overnight became the Indian media’s Enemy Number One. This was not on account of the Fourth Estate arrogating to itself the role of a custodian of India’s multicultural inheritance but because frenzied kar sevaks, irked by what they perceived was the media’s onesided coverage of the dispute in Ayodhya, chose to beat up photographers (remember this took place before the invasion of the TV crews) carrying out their professional duties. The relationship between the media and saffron outfits turned so sour that when the police unleashed water cannons on BJP demonstrators who tried to violate a ban on a scheduled rally on Delhi’s Boat Club Lawns in February 1993, a gaggle of journalists actually cheered and muttered ‘serves you right’.
    • Digging up the past Kar Sevaks performing the foundation-laying ceremony in 1989
      Photo: HC TIWARI
    • In a larger sense, the Liberhan report is unlikely to revive interest in the Ayodhya dispute. Despite the grandstanding by the VHP and Togadia’s apparent willingness to mount the gallows for the sake of Lord Ram, India has moved on from the decade in which mandir fought Mandal and Muslim. There may still be a Hindu desire to see a grand Ram temple at the disputed site in Ayodhya but the nation is not going to do anything dramatic about it. The makeshift Ram temple surrounded by armed guards and steel barricades is likely to define the Ayodhya landscape for the foreseeable future.

Chidambaram temple trustees approach SC

  • tags: no_tag

    • The trustees of the Nataraja temple in Chidambaram town in Tamil Nadu in a lawsuit in the Supreme Court Friday challenged the state government's reported move to take over the temple management. The court has asked the Tamil Nadu government for its reply.


      A bench of Justice Altmas Kabir and Justice Cyriac Joseph sought the Tamil Nadu government's reply on a lawsuit of the Podhu Dikshidars, the hereditary trustees managing the affairs of the temple.


West “hypocritical” to protest Hindu mass animal slaughter | The Observers

  • tags: no_tag

    gadhimai T.jpg
    • Every five years, Hindus travel for miles to participate in Nepal's mass sacrifice of tens of thousands of buffaloes, goats, roosters and pigeons. Animal rights activists, including French actress Brigitte Bardot, have attempted to put an end to the tradition. But as one of our Observers there points out, the five-yearly mass slaughter is no worse than the daily dealings of a modern abattoir.
    • “Gadimai brings to light what happens every single day in cattle farms across the planet”

      Sushma Joshi is a writer and filmmaker from Nepal. She writes the blog "The Global and the Local". 

    • Of course, culture doesn't excuse everything. But for those of us jaded by the stories of the US and Europe's hidden slaughterhouses, where animals are shot with electric stun guns and killed in much larger numbers everyday, the Gadhimai sacrifice shouldn't cause any concern. How many Gadhimai-like sacrifices happen every single day in cattle farms across the meat-eating world? Nepal, incidentally, has a poor population for whom meat remains a luxury - for many of those doing the sacrificing, this may be the only meat they eat during the entire year. So there is just a tiny bit of hypocrisy associated with those who protest this event - if only because the global footprint of meat consumption is so much more gigantic in the western world.
    • , an aspiring vegetarian, almost support sacrifices for this reason - because it provides a mirror for the world to see exactly what goes onto their plates when they eat some dumplings."

Modern Chanakya’s game

  • tags: no_tag

    • By Saeed Naqvi
    • There are conspiracy theorists who believe that Narasimha Rao and his Sancho Panza, Home Minister S B Chavan, fell back on total inaction throughout the seven hours that the Babari Masjid was systematically pulled down because they were not averse to the BJP gaining in strength in the north to keep potential Congress challengers outside the playfield. Don’t forget, this was the very beginning of PVN’s prime ministerial innings.

      Notice the paradox. There is a north-south divide within the Congress, but an unstated north-south rapport between the Congress and the BJP.
      Part of this latter rapport had its roots in the caste divisions sharpened by the Mandal Commission report providing reservation in government jobs to ‘other backward castes’ or OBCs.


  • tags: no_tag

    • In fact some analysts have gone to the extent of making the absurd claim that Pakistan winning its war on terror is "in India's supreme national interest!" - take that - to make out the even more ridiculous case that India must make "moves, offers, anything that will enhance the power and credibility" of Pakistan's government.
    • Even a child knows that a clenched fist packs much more power than an open hand with its five fingers apart. There is also no one who does not know that if the roots of a tree are cut, its branches lose their vitality, and that even if they are successfully replanted individually, they emerge much weaker than when they were being nourished through one stem. Yet, some bright individuals want Indians to believe that India will be secure if there is a strong Pakistan that is ideologically and militarily united to fight India, and will become vulnerable if it has to deal with five small resultant states that will be without direction and power, and perhaps even at war with each other.
    • Many people realise that if Pakistan emerges stronger from the present crisis, particularly after the US leaves, the news can only be bad for India. A well-oiled terror apparatus having the full backing of a rejuvenated state which may well get Afghanistan back, as it is aiming to, will present an unprecedented challenge to India.

Rightwing Rumblings: YSR daughter Sharmila convert's Hindu boy to Christianity .

  • tags: no_tag

    • Thus YSR alias Y Samuel Reddy along with his wife , sister, daughter and son YS Jagan prooved their christist conversion treachery mindset and their anti-Hindu feelings . The sorrow part of above incident is that YSR family used their Daughter marriage for religious conversion , and still dare to give Hindus lectures on Secularism .

खदानों में हाथ डालिये, मधु कोड़ा और रेड्डियों जैसे खरबपति बनिये… Mining Mafia, Jharkhand, Madhu Koda, Congress

  • tags: no_tag

    • अब आते हैं नक्सलियों पर, नक्सली विचारधारा और उसके समर्थक हमेशा से यह आरोप लगाते आये हैं कि आदिवासी इलाकों से लौह अयस्क और खनिज पदार्थों की लूट चल रही है, सरकारों द्वारा इन अति-पिछड़े इलाकों का शोषण किया जाता है और खदानों से निकलने वाले बहुमूल्य खनिजों का पूरा मुआवज़ा इन इलाकों को नहीं मिलता आदि-आदि। लेकिन तथाकथित विचारधारा के नाम पर लड़ने वाले इसे रोकने के लिये कुछ नहीं करते, क्योंकि खुद नक्सली भी इन्हीं ठेकेदारों और कम्पनियों से पैसा वसूलते हैं। यहीं आकर इनकी पोल खुल जाती है, क्योंकि कभी यह सुनने में नहीं आता कि नक्सलियों ने किसी भ्रष्ट ठेकेदार अथवा खदान अफ़सर की हत्याएं की हों, अथवा कम्पनियों के दफ़्तरों में आग लगाई हो…। मतलब ये कि खदानों और खनिज पदार्थों की लूट को रोकने का उनका कोई इरादा नहीं है, वे तो चाहते हैं कि उसमें से एक हिस्सा उन्हें मिलता रहे, ताकि उनके हथियार खरीदी और ऐश जारी रहे और यह सब हो रहा है आदिवासियों के भले के नाम पर। नक्सली खुद चाहते हैं कि इन इलाकों से खनन तो होता रहे, लेकिन उनकी मर्जी से… है ना दोगलापन!!! यदि नक्सलियों को वाकई जंगलों, खनिजों और पर्यावरण से प्रेम होता तो उनकी हत्या वाली "हिट लिस्ट" में मधु कोड़ा और राजशेखर रेड्डी तथा बड़ी कम्पनियों के अधिकारी और ठेकेदार होते, न कि पुलिस वाले और गरीब निरपराध आदिवासी।

बौद्ध भिक्षु बोधगया मंदिर पर पूर्ण नियंत्रण चाहते हैं

  • tags: no_tag

    • बौद्ध धर्म के पवित्र स्थलों में से एक बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर के प्रबंधन पर बौद्ध भिक्षु अपना नियंत्रण चाहते हैं। बिहार सरकार द्वारा इस ओर ध्यान न दिए जाने पर उन्होंने अपने आंदोलन में तेजी लाने का निर्णय किया है।
      बौद्ध भिक्षु एक लंबे समय से बोधगया स्थित 1,500 वर्ष पुराने मंदिर पर अपने पूर्ण नियंत्रण की मांग कर रहे हैं। पटना से 110 किलोमीटर दूर स्थित बोधगया में ही 2,550 वर्ष पहले गौतम बुद्ध को ज्ञान प्राप्ति हुई थी।
    • पटना।

अब मौन नहीं, कर सिंहनाद

  • tags: no_tag

    • आज भय नहीं, भयानक गर्जना चाहिए। किंतु हमारे प्रधानमंत्री तो भय पैदा कर रहे हैं। बार-बार कह रहे हैं 26/11 जैसे हमले और हो सकते हैं। देश पर हुए सबसे बड़े आतंकी हमले की पहली बरसी पर आखिर ऐसी चेतावनी क्यों? क्या इसलिए कि यदि फिर पाक कोई नापाक हरकत कर दे तो प्रधानमंत्री कह सकें कि उन्होंने पहले ही कह दिया था! आतंक की फैक्ट्री पाकिस्तान में है। वे पाकिस्तान को डराएं। वैसा तो वे कुछ कर नहीं पा रहे। हां, हमारे बीच जरूर घबराहट फैला रहे हैं।
    • कसाब मरा नहीं है। जिंदा ही रहना चाहिए, क्योंकि ऐसे लोगों को ऐसी ही यंत्रणा देनी चाहिए कि उन्हें जिंदगी मुश्किल और मौत आसान लगने लगे। 26/11 पर रामधारी सिंह दिनकर की ये पंक्तियां प्रासंगिक लगती हैं-

      तू मौन त्याग, कर सिंहनाद,

      रे तपी! आज तप का न काल।

      नव-युग-शंखध्वनि जगा रही,

      तू जाग, जाग मेरे विशाल।

जहा कभी आसरा मिला अब वहीं हो गए बेगाने

  • tags: no_tag

    • गोपालगंज
    • भारत विभाजन के बाद पूर्वी पाकिस्तान [अब बाग्लादेश] में साप्रदायिक हिंसा और र्दुव्यवहार झेलने वाले जिन तीन सौ बंगाली हिंदू शरणार्थी परिवारों को भारत की नागरिकता देकर जिला मुख्यालय से 38 किलोमीटर दूर श्रीपुर में बसाया गया था, वे अब अपनों के बीच बेगाने हैं। 46 वर्ष बाद भी इनके साथ सामान्य सलूक नहीं किया जाता। उनको मिली जमीन पर दबंगों का कब्जा है। वे धर्म, जाति और भाषा के आधार पर राज्य में किसी का सुनिश्चित थोक वोट नहीं बन पाये हैं, इसलिए कोई उनका पुरसाहाल नहीं है।

      दूसरी तरफ इसी राज्य के सीमावर्ती जिलों में बड़ी संख्या में घुसपैठ कर आने वाले बाग्लादेशी किसी न किसी तरह नागरिकता प्राप्त कर स्थानीय आबादी के लिए न सिर्फ मुसीबत बन गए हैं, बल्कि राजनीति को भी प्रभावित कर रहे हैं। श्रीपुर में बसाये गए लोगों की आजीविका का मुख्य साधन सरकार से मिली थोड़ी सी जमीन पर खेती और मजदूरी है।

    • ये लोग सरकार की पहले से मिली जमीन पर झोपड़ी बनाकर आसपास के लोगों के साथ घुल मिलकर रहने लगे। परंतु आज सरकारी सुविधा के अभाव में इनके सामने विकट समस्या खड़ी हो गयी है। हद तो यह कि इन्हें नागरिकता मिलने के बाद भी बाग्लादेशी शरणार्थी कहा जाता है।

कांटों की सेज से इलाज

  • tags: no_tag

    • स्वीडन की हवाओं में आजकल प्राचीन भारतीय हिंदू आयुर्वेद की महक घुली है, और इसकी दुकानों में इसी आयुर्वेद के एक पुराने संत्र की धूम है। स्वीडन में आजकल नुकीले कांटों से बनी चारपाई खूब बिक रही है।

      हालांकि, यह प्राचीन हिंदू शैय्याओं की तरह की लोहे की कीलों से नहीं बनीं है बल्कि इन्हें बनाने में प्लास्टिक के स्पाइक्स का इस्तेमाल किया गया है। वैसे इससे दर्द कम नहीं होता। लेकिन स्वीडन के लोग इसी दर्द में दवा पा रहे हैं। इस ‘सेज’ को सीजोफ्रेनिया से लेकर डैंड्रफ तक की बीमारियों में असरदार माना जा रहा है।

      योगा शिक्षक कैटरीना रॉल्फ्सडॉटर-जैंसन बताती हैं कि यह शुरुआत में भले ही बहुत दर्द देता हो लेकिन धीरे-धीरे एड्रेलिन हर हिस्से में पहुंचता है और आप आराम महसूस करते हैं।

मटुकनाथ के सामने फिर हुआ मुंह काला

  • tags: no_tag

    • भोपाल.
    • रवींद्र भवन में लेखक महंत अजय दास द्वारा लिखी गई विवाह एक नैतिक बलात्कार पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम में विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने लेखक का मुंह काला कर जमकर पिटाई कर दी।
    • लेखक ने पुस्तक के विमोचन के लिए लव गुरू मटुकनाथ चतुर्वेदी और उनकी पत्नी जूली को बुलाया था। विश्व हिंदू परिषद कार्यकर्ता दिलीप खंडेलवाल ने बताया कि विवाह भारतीय परंपरा है। परंपरा और संस्कृति के साथ किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा।
    • शादीशुदा और एक पुत्र के पिता मटुकनाथ में उस समय चर्चा में आए थे, जब वे अपनी एक छात्रा जूली के साथ अपने सरकारी प्रफेसर क्वार्टर में अकेले रहते हुए पकड़े गए थे।

राम मंदिर आंदोलन में शामिल थे वाजपेयी : सिंघल

अटल भी शामिल थे राम मंदिर आंदोलन में: विहिप

  • tags: no_tag

    • बाबरी मस्जिद विध्वंस को काला अध्याय बताने की आडवाणी की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर सिंघल ने कहा कि छह दिसंबर ऐतिहासिक शौर्य दिवस है और मैं चाहूंगा कि आडवाणी ऐसा नहीं बोले। मैंने उन्हें मना किया और इस पर फिर बातचीत करूंगा। उन्होंने दावा किया कि तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव मंदिर आंदोलन से सहानुभूति रखते थे और मेरी धीरूभाई अंबानी के सौजन्य से राव से तीन बार मुलाकात हुई थी। हालांकि उनकी (राव) ओर से मस्जिद तोड़े जाने की बात कहना बड़ा झूठ है।
    • विश्व हिन्दू परिषद ने शुक्रवार को कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी राम जन्मभूमि आंदोलन में शामिल थे।
    Image Loading