Saturday, July 11, 2009


  • tags: no_tag

    • By  Dr Radhasyam Brahmachari

      Glorification of Sher Shah:

    • Sher Shah Suri, “The Tiger King”, founder of the Suri Dynasty, was born at Narnaul in Punjab in 1486 and died on May 22, 1545 at Kalinjar. His original name was Farid Khan.
    • Because of his abilities, he was soon appointed by his father to manage the family Jagir at Sasaram. [1]
    • Farid Khan exploited this opportunity to accumulate riches by highway robbery and plundering the wealth and riches of the Hindus, taking their women and children as captives and selling them as slaves,
    • The money that Sher Khan accumulated by Criminal means helped him raise a small army and hence to begin his political career.
    • His reign barely spanned five years, but the so called secular historians of India , who are not prepared to miss even a single opportunity to glorify the Muslim invaders, portray it as a landmark in the history of the Sub-continent.
    • According to these spineless slave historians, Sher Shah had revolutionized the revenue syatem which Akbar later on copied. But according another group of historians, Todar Mal, a Rajput minister of Akbar’s court, had implemented all such reforms connected to revenue administration, which are now being wrongly attributed to Sher Shah. [2]
    • Road Building Enterprise of Sher Shah:
    • So, the rule of Sher Shah lasted only for five years and out of these five years, he spent nearly one year to gain control over the fort of Kalinjore.[6] During the rest of his reign, he was on hectic movement from east to west and north to south for suppressing revolts or conquering new forts.
    • Was it possible for Sher Shah (or any other ruler of that time) to build such long roads within such a short span of time? Furthermore, is it possible to make roads, nearly 6,240 Km long, today using modern technology, within a period of 4 or 5 years? The real story is that, Abbas Khan, a court-chronicler of Sher Shah had written some lies to please and glorify his master and our historians took those narrations at their face value, without applying their common sense to estimate the credibility of those blatant lies.
    • So, how could Sher Shah carry out such a gigantic project like making a road from Bengal to Punjab , when the territory in question was not under his supreme control?
    • Sher Shah could have built a road, 300 Km long, within his reign of 4 years. It is important to note that this chronicler did not mention a single word about building a road from Bengal to Punjab by Sher Shah.
    • simple common sense tells us that there were networks of good roads in existence throughout the country from very ancient times, centuries before the arrival of the Muslim invaders. One should remember that, in those days, military campaigns among the Hindu kings were very common affair. How could these military campaigns have been possible without good roads? It means that there were good roads, wide enough for chariots drawn by four horses, even in very ancient times.
    • What Sher Shah Really was:
    • But, in reality, Sher Shah was a Muslim Pathan from Afghanistan and like any other Muslim invaders, he was equally treacherous and cruel to the Hindus.
    • Such of their wives and families, as were not slain, were captured. One daughter of Puran Mal and three sons of his brother were taken alive and the rest were all killed. Sher Shah gave the daughter of Puran Mal to some itinerant minstrels (bazigars) that they might make her dance in the bazaars, and ordered the boys to be castrated, so that the race of the oppressors (i.e. the Hindus) might not increase.”
    • Sher Shah had 1,000 women in his harem in the said fort at Chunar. Apprehending the fall of Chunar fort, Sher Shah requested Raja Hari Krishna Roy to provide a safe place for his harem in the Rohtas fort.
    • At first, King Hari Krishna was hesitant.

      However, on Sher Shah’s promise by touching the Quran, the Raja agreed to give shelter, but could smell a rat. As soon as Raja Hari Krishna agreed,

    • Sher Shah hatched a plan to capture the fort. About 1,200 dolis (palanquins) were made ready overnight and two Afghan soldiers, clad in burqas, occupied each doli.
    • Our spineless historians describe this incident as exhibit of exemplary military acumen and bravery of Sher Shah.
    • Allah designates such a treachery with the kafirs as taqiyah or holy deception and attaches merit for such treacherous activities.
    • How Farid Khan became Sher Shah:
    • As a procedure, he used to encircle a Hindu village, kill the adult males and sell the women and children as slaves and confiscate their properties. He also used to bring false allegations against the Hindu landlords and occupy their wealth and properties after killing them en masse or driving them out of the jagir. | भारत और पड़ोस | 'दो-चार दिन में ख़ालिस्तान की घोषणा हो जाती'

  • tags: no_tag

    • आपको ब्रीफ़ में ऑपरेशन के क्या उद्देश दिए गए थे?

      मुझे बताया गया था कि हालात इतने ख़राब हो गए हैं कि अगले दो-चार दिन में ख़ालिस्तान की घोषणा हो जाएगी. जिसके बाद पंजाब पुलिस ख़ालिस्तान में मिल जाएगी. फिर दिल्ली और हरियाणा में जो सिख हैं वो फ़ौरन पंजाब की ओर बढ़ेंगे और हिंदू पंजाब से बाहर निकलेंगे. 1947 की तरह दंगे हो सकता है. पाकिस्तान भी सीमा पार कर सकता है, यानी पाकिस्तान से बांग्लादेश के अलग होने की घटना भारत में दोहराई जा सकती है.

    लेफ़्टिनेंट जनरल कुलदीप सिंह बराड़
    • तब हम लोगों ने सोचा कि अगर और इंतज़ार किया तो रात निकल जाएगी और जब दिन चढ़ेगा तो यह बात पंजाब के कोने-कोने में पहुँच जाएगी. तब लाखों सिख अपनी बंदूक़ें और तलवारें लेकर यहाँ चले आएंगे. सुबह तक ऑपरेशन ख़त्म नहीं हुआ तो सेना के लिए मुश्किल पैदा हो जाएगी. इसलिए साढ़े नौ बजे के क़रीब ऑपरेशन की शुरुआत हुई.

कलेक्टोरेट में गूंज उठे शंख

  • tags: no_tag

    • रतलाम. मठों व मंदिरों के मामले में सरकार के बढ़ते हस्तक्षेप तथा मंदिरों व पुजारियों से संबंधित विभिन्न समस्याओं को लेकर जिला प्रशासन के प्रति साधु-संतों, पुजारियों व महंतों में भारी नाराजी है। उन्होंने शुक्रवार को कलेक्टोरेट में शंख बजाकर हनुमान चालीसा का पाठ किया। उन्होंने ज्ञापन सौंपकर ऐलान किया कि सरकार ने मठ-मंदिर मामले में हस्तक्षेप खत्म नहीं किया व मंदिरों और पुजारियों की समस्याएं दूर नहीं हुईं तो सरकार को हिंदू विरोधी मानकर आंदोलन करेंगे।
    • मंदिर की राशि से संवर रहे कार्यालय- देवस्थान पुजारी संघ ने संभागायुक्त के नाम सौंपे एक अन्य ज्ञापन में बताया है कि कोर्ट ऑफ वॉर्ड्स के सात मंदिर हैं जिनकी व्यवस्था में मंदिरों की राशि से लगभग हर वर्ष 50 से 60 हजार रुपए व्यय हो रहे हैं। यही नहीं कोर्ट ऑफ वॉर्ड्स के दफ्तर को संवारने में ही करीब दो लाख रुपए हर साल व्यय किए जा रहे हैं जो विचारणीय है।

पाक छोड़ आया एक और हिंदू परिवार

  • tags: no_tag

    • वीरवार समझौता एक्सप्रेस से पाकिस्तान छोड़कर आए अनिल कुमार के परिवार के आंखों में दहशत साफ दिख रही थी।
    • तालिबान समर्थक हिंदू परिवारों के घरों को निशाना बना रहे हैं। वह भारत आना चाहते हैं लेकिन उन्हें वीजा नहीं मिल पा रहा है।
    • उन्होंने कहा कि उनका पाकिस्तान में किराने का कारोबार था। अच्छा कामकाज था। लाखों की लागत दुकान में लगी थी। घर की कीमत भी करीब आठ-दस लाख रुपये थी। पहले उनकी दुकान लूट ली गई और बाद में उनके घर में कब्जा कर लिया गया। जब वह पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाने पहुंचे तो पाकिस्तान पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं की।

यूपी की तरफ जाने वाले रास्ते सील

  • tags: no_tag

      • Rohtak
        यूपी की तरफ जाने वाले रास्ते सील
        भास्कर न्यूज Saturday, July 11, 2009 03:17 [IST]  

        रोहतक. लाठौत गांव के समीप से गुजरने वाली भालौठ माइनर में गायों के कटे अंग मिलने पर सदर पुलिस ने यूपी की तरफ जाने वाले सभी रास्ते सील कर दिए है। गौ-तस्करों को पकड़ने के लिए पुलिस टीमें फरीदाबाद, मेवात, झज्जर की सीमाओं पर नाकेबंदी कर जांच कर रही है। गांव लाठौत के समीप नहर में दस गायों के कटे अंग मिलने से गौ-भक्तों में रोष बना हुआ है।

    • तिलियार पर्यटन केंद्र के समाने राजीव नगर में भी पिछले दिनों विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के सदस्यों ने गौकसी के लिए बांधी गई गाय और भैंस पकड़ी थी।अर्बन एस्टेट पुलिस को इस संबंध में सूचना देने के बाद भी पुलिस ने गौ-तस्करों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की थी। यह घटना करीब दो माह पहले की है।

Jagran - Yahoo! India - News

  • tags: no_tag

    • सिलीगुड़ी (दार्जिलिंग)
    • उत्तार बंगाल कस्टम्स की खुफिया टीम ने गुरुवार को दक्षिण दिनाजपुर जिले के बांग्लादेश सीमांत स्थित जाबरागाछी से पांच अति प्राचीन व दुर्लभ मूर्तियां बरामद की। तीसरी, पांचवी, चौथी, नौवीं, ग्यारहवीं व बारहवीं सदी की इन प्रतिमाओं का मूल्य अंतरराष्ट्रीय बाजार में पंद्रह करोड़ डालर आंका जा रहा है। बांग्लादेश से लायी गयीं इन प्रतिमाओं को अंतरराष्ट्रीय तस्करों का दल उत्तार बंगाल के रास्ते नेपाल ले जाने की फिराक में था।
    • बरामद प्रतिमाएं इतनी कलात्मक हैं कि जैसे देखते ही बोल पड़ेंगी। मंगाबाबू ने बताया कि प्राथमिक जांच में यह पता चल रहा है कि नेपाल, उत्तार बंगाल, बिहार ,उत्तार प्रदेश, राजस्थान और बांग्लादेश के बीच अंतरराष्ट्रीय मूर्ति तस्करों का बड़ा गिरोह काम कर रहा है। गिरोह को राजनीतिक और आपराधिक संरक्षण भी मिल रहा है।
    • उन्होंने एक प्रश्न के जवाब में कहा कि उत्तार बंगाल सीमांत बांग्लादेश में अभी भी पुरातत्व हिन्दू मूर्तियों को मिट्टी के नीचे दबाकर रखा गया है। इसे अंतरराष्ट्रीय मूर्ति तस्कर यूरोप और यूएसए में म्यूजियम के शौकीनों के लिए करोड़ों डालर में बेच देते हैं।

Shakeel men tried to kill sadhvi lawyer

  • tags: no_tag

    • Four members of the Chhota Shakeel gang have recently been arrested by the crime branch of Mumbai police for allegedly planning to kill an advocate defending Sadhvi Pragya Singh Thakur in the Malegaon blasts case. The order to eliminate him came from Shakeel himself, said a crime branch source. He added that another advocate, defending a member of a Hindu extremist group, was also on their hitlist.
    • It was Ghachchi who was told by Shakeel to eliminate the advocates. He was paid Rs50,000 per month as retainer and was asked to form a gang.

The Girl with really nice .............. hair................

Pop culture - Who’s the top god?

  • tags: no_tag

    • The charismatic god, part of the original Hindu trinity and associated with weed, sex and dance, is the ‘real rockstar’ for an increasing number of youngsters today, adorning their tees and the walls of their rooms.

      It’s fuelling the business of a chain of small, hole-in-the-wall shops in Delhi’s Paharganj area — the biggest centre of god merchandise.Here you’ll get everything from posters to t-shirts (Rs 90-130) and bags with pictures of most gods and goddesses of the Indian pantheon.

      Sonu, the owner of one such, deals in hand-painted posters. He has a huge variety of them,in batik and velvet,but his speciality are those that change under UV light. Shiva is the favourite with Indians, he’s found,while Ganesha is for Westerners and Buddha is universal.

    • Foreigners, in particular, area lot more aware these days.” It’s not just t-shirts and posters.‘Boom Shankar’ and ‘Chill Om’ have all but replaced ‘wassup’ and ‘peace mate’ in the popular lingo of youngsters.

      Shiva also has a following among musicians with DJs and bands calling themselves Shivaand Tatva Kundalini.

The Pioneer > Online Edition : >> Alienating our own culture

  • tags: no_tag

    • Balbir K Punj
    • Over the last 10 days, English dailies and many leading vernacular newspapers in the country have been devoting columns after columns to pop star Michael Jackson who recently passed away. About a fortnight ago, sarod maestro Ustad Ali Akbar Khan passed away in the US, a country he had migrated to some years ago. The Press here devoted just a few paragraphs to his demise. Even a memorial meeting that was organised in New Delhi in his remembrance and attended by several eminent artistes got desultory coverage. But on July 8, the same newspapers were giving prime space to Michael Jackson’s funeral.
    • The contrast truly brings out how we Indians have become culturally decadent.
    • Our education system has much to answer for this decadence among our young who blindly follow Western culture.

Rahul Gandhi and the Westerners « Indian Realist

  • tags: no_tag

    • The Westerners have now begun to do to Rahul Gandhi what they did to J.L. Nehru — raise his profile strategically to increase his worth and acceptability among Indians and push him into leadership position in India. Exactly the same thing was done by them to Nehru, when he was an unknown nobody. The Westerners spotted his slave-like attitude to them, and recognised the benefits of manoevering him into a leadership position in India (”he will take orders from us and we will have a lot of influence over him”).
    • If this behaviour of such “West educated” Indians continues, then there is no option but to prevent Indians from leaving for the West to study, especially humanities and social sciences. Permission shold be given to Indians only to study subjects related to science and technology and medicine. The rest of the Indians trying to go to the West to study media, human rights, history, environment, etc. should be prevented from leaving. Such people come back brainwashed and  cannot be trusted with the welfare of the country and the race.

The Gay Rights Campaign of the US Embassy « Indian Realist

  • tags: no_tag

    • The recent gay rights campaign was an artificial campaign that was orchestrated by the US embassy through the Times of India group. Most such activists assembling for demonstration in Delhi for gay rights were American citizens (mostly goras but many African-Americans too). The campaign was quite blatantly Western.
    • There is a pattern to these kinds of campaigns being controlled from outside the borders of India. I began to see “gay rights” articles quitely appear in some fringe newspapers about a couple of years ago. Once some ground had been prepared in terms of publicity, the reporting moved to mainline papers in about a year, especially in Times of India. For the last two months, there was saturation coverage in ToI, which then seamlessly led to the court verdit allowing gay sex.
    • Exactly the same thing I saw in Binayak Sen campaign orchestrated by the US and UK, which led to Katju give a favourible verdit without hearing the opposition’s arguments (!).
    • What I am worried about is: why do all such campaigns orchestrated by the Westerners nicely lead up to a favourible court verdict in India? What is the connection of these campaigns and their patrons with the Indian judges? I am seeing many judgements coming out of the courts which are perfectly in alignment with these orchestrated campaigns.

» Blog Archive » सावरकर का स्मारक फ्रांस में मंजूर नहीं भारत को

  • tags: no_tag

    • अंशू सिंह
      डेटलाइन इंडिया
    • भारत सरकार नेताजी सुभाष चंद्र बोस को ही स्वतंत्रता संग्राम सेनानी मानने से इंकार नहीं करती। वीर सावरकर के नाम से विख्यात विनायक दामोदर सावरकर की स्मृति का स्मारक फ्रांस सरकार बनाना चाहती है मगर भारत सरकार को यह भी मंजूर नहीं है।
    • वीर सावरकर को जब काला पानी यानी अंडमान ले जाया जा रहा था तो वे जहाज से कूद गए थे और एक असाधारण घटना के तौर पर तैरते हुए फ्रांस के द्वीप मर्शील्स पर पहुंच गए थे। फ्रांस सरकार वीरता की इस अभूतपूर्व घटना को यादगार बनाने के लिए मर्शील्स के समुद्र तट पर सावरकर का स्मारक बनाना चाहती है मगर भारत सरकार ने अभी तक फ्रांस सरकार को इसकी अनुमति नहीं दी है।
    • अंग्रेजों को जब यह पता लगा तो उन्होंने मर्शील्स के प्रशासन पर भारतीय अभियुक्त को छिपाने का अरोप लगाया और बदले में मर्शील्स के तत्कालीन मेयर ने इस्तीफा दे दिया था।
    • बचाव में कांग्रेस के नेता कह रहे हैं कि अगर भाजपा इतनी ही देशभक्त है तो एनडीए सरकार के दौरान सुभाष चंद्र बोस से संबंधित दस्तावेज संसद के पटल पर क्यों रख दिए गए थे?
    • दरअसल सुभाष चंद्र बोस को अगर स्वतंत्रता संग्राम का नायक घोषित कर दिया गया तो कांग्रेस के नायकों का कद कम हो जाएगा।

» Blog Archive » भाजपा अब राज ठाकरे को साथ लेगी?

  • tags: no_tag

    • श्रीपति त्रिवेदी
      डेटलाइन इंडिया
    • भारतीय जनता पार्टी शिवसेना को उसी की भाषा में जवाब देने पर तूल गई है। भाजपा और शिवसेना सबसे पुराने राजनैतिक सहयोगी है। मगर हाल के वर्षों में शिवसेना ने राष्ट्रपति चुनाव को ले कर भावी प्रधानमंत्री के मुद्दे तक पर भाजपा की राय का विरोध किया था।
    • इसीलिए अब भाजपा गंभीरता से इस बात पर विचार कर रही है कि अक्तूबर में होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा के चुनाव में बाल ठाकरे के भतीजे और महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के नेता राज ठाकरे के साथ मिल कर चुनाव लड़ा जाए। इस संबंध में प्रस्ताव प्रकाश जावड़ेकर की ओर से आया था और जावड़ेकर बाल ठाकरे के विश्वासपात्र रहे स्वर्गीय प्रमोद महाजन के शिष्य हैं। पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह की चिंता यह है कि अगर राज ठाकरे को साथ लिया तो उनके हिंदी भाषियों के विरोध का असर भाजपा के परंपरागत वोट बैंक पर पड़ेगा।

HINDU SAMHATI: Major Communal Riot Broke in Murshidabad

  • tags: no_tag

    • Today, 10th July,
    • Two village markets and hundreds of Hindu houses were looted and burnt. Firing between police and Muslim rioters still going on at 11.30 night. Curfew imposed in the whole area. BSF and CRPF deployed to help police and RAF
    • As usual, the electronic media/ TV channels are silent and totally blacked out this major incident.
    • India
      ’s Finance Minister Mr. Pranab Mukherjee has been elected from this Murshidabad district. As a gratitude to the Muslims of this district, he announced in his finance Budget in parliament that he would allocate a huge sum of money to establish a campus of
      Aligarh Muslim University in this district. This Aligarh Muslim University spearheaded the separatist movement for creation of Pakistan in pre 1947 years. Pranab Mukherjee is expected to visit Jangipur, his LS constituency in this district on Sunday as per pre scheduled program. And it seems that there shall be no visit of the Finance Minister in Beldanga and Nawda since these areas witnessed atrocities of Muslims on hapless Hindus.

गृहमंत्री जी मैं भी बहुत शर्मिंदा हूँ !!!!!!!!!!!!!!!!!!

गृहमंत्री जी मैं भी बहुत शर्मिंदा हूँ !!!!!!!!!!!!!!!!!!

  • जी, ग्रहमंत्री जी मैं शर्मिंदा हूँ इन १० लाख कश्मीरी ब्राह्मणों पर जो दिल्ली के टेंटों में मानसून का इंतजार कर रहे है।
  • मैं शर्मिंदा हूँ उन ६० हिंदू कारसेवको के माँ, बेहें, बेटी और उनके बच्चो के सामने जिनको यह बतला दिया गया की तुम्हारे माँ बाप अपने आप ट्रेन बंद कर कर आग लगा कर मर गए। मैं शर्मिंदा हूँ की ६ साल से एक महान सेकुलर सरकार ने उन कातिलो को अभी तक नही पकड़ा।
  • मैं शर्मिंदा हूँ भागलपुर, मलियाने, मेरठ, मुंबई, और देश भर के तमाम दंगा पीड़ित लोगो के सामने की कंधमाल जैसी किस्मत नही की आप से भी कोई माफ़ी मांगे।
  • मैं शर्मिंदा हूँ कांग्रेस जनित भोपाल गैस कांड की पीडितो की न सुनवाई होने पर।
  • मैं शर्मिंदा हूँ कोशी बाद पीडितो को बजट में एक रुपया न देने पर।
  • मैं शर्मिंदा हूँ आधे हिन्दुस्थान पर गाँधी परिवार के लेबल चस्पाने से और एक, मात्र, एक पुल का नाम परम श्रध्ये प्रात: स्मरणये पूजनिये वीर सावरकर जी के नाम पर न रख पाने के लिए। हिन्दुस्थान तो छोड़ ही दो दूर फ्रांस देश के अनुरोध पर की हमारे यहाँ सावरकर जी की मूर्ति लगे, भारत सरकार अनुमति दे और उसके अनुमति न देने पर।
  • मैं शर्मिंदा हूँ मोहन लाल शर्मा के बीवी और बच्चो के सामने जिनको अपने बाप की शहादत को धर्मनिरपेक्षता की वोटो की तरजू पर झूलते देखा।
  • मैं शर्मिंदा हूँ उन हिन्दू और देशभक्त असमी भाई और बहेनो से जो न चाहकर भी अपनी असिमिता इस्लामिक गुंडों से नहीं बचा पा रहे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद कांग्रेसी सरकार वोटो के लिए बंगलादेशी मुसलमानों को नहीं निकलने दे रही।
  • मैं शर्मिंदा हूँ कांग्रेस की बेशर्म महाराष्ट्र सरकार की नपुंसक व्यवहार से जिस में एक ही देश के दुसरे राज्ये से आये बिहारी बच्चो के पीटने पर वोटो की गिनती करती है।

इतना तो हर कोई कर सकता है!! | सारथी

  • tags: no_tag

    • अनुसंधानों द्वारा यह बात बारबार स्पष्ट हुई है कि अखबारों एवं पत्रिकाओं में “संपादक के नाम पत्र” सबसे अधिक पढे जाने वाला एक विभाग है. इतना ही नहीं लगभग हर व्यक्ति का हर तरह का पत्र बिना सेंसरिंग के छाप दिया जाता है.

      यदि किसी भ्रष्ट व्यक्ति की कारगुजारी, उसका निकम्मापन, किसी दफ्तर में जिस तरह से मनमाना व्यवहार लोगों से किया जाता है, इस विषय पर महज एक पत्र छप जाये तो उसका असर ऐसा होता है जैसे आप ने शाब्दिक मूठ चला दिया हो.

    • अब तो जानकारी के अधिकार (राईट टु इन्फर्मेशन) के जादूई डंडे और पत्र-लेखन के टोटके को जोड दिया जाये तो एक से एक भूत भागते नजर आयेंगे. समस्या सिर्फ पहल करने की है.

महाजाल पर सुरेश चिपलूनकर (Suresh Chiplunkar): भाजपा को “हिन्दुत्व” और “राष्ट्रवाद” से दूर हटने और “सेकुलर” वायरस को गले लगाने की सजा

  • tags: no_tag

    • भाजपा की सबसे बड़ी गलती (बल्कि अक्षम्य अपराध) रही कंधार प्रकरण… जिस प्रकरण से पार्टी अपनी ऐतिहासिक छवि बना सकती थी और खुद को वाकई में “पार्टी विथ डिफ़रेंस” दर्शा सकती थी, ऐसा मौका न सिर्फ़ गँवा दिया गया, बल्कि “खजेले कुत्ते की तरह पीछे पड़े हुए” मीडिया के दबाव में पार्टी ने अपनी जोरदार भद पिटवाई। वह प्रकरण पार्टी के गर्त में जाने की ओर एक बड़ा “टर्निंग पॉइंट” साबित हुआ। उस प्रकरण के बाद पार्टी के कई प्रतिबद्ध वोटरों ने भी भाजपा को वोट नहीं दिया, और पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ताओं में निराशा फ़ैलना शुरु हो चुकी थी।
    • जब वरुण गाँधी पैदा भी नहीं हुए थे उस समय से भाजपा-संघ-जनसंघ, मुसलमानों के लिये एक “हिन्दू पार्टी” हैं। चाहे भाजपा सर के बल खड़ी हो जाये, डांस करके दिखाये, उठक-बैठक लगा ले, मुस्लिमों की ओर से उसे तालियाँ मिलेंगी, कुछ सेकुलर अखबारों में प्रशंसात्मक लेख मिल सकते हैं लेकिन वोट नहीं मिलेंगे। वन्देमातरम की बजाय किसी कव्वाली को भी यदि राष्ट्रगान घोषित कर दिया जाये तब भी मुसलमान भाजपा को वोट नहीं देंगे।
    • माना कि किसी भी राजनैतिक पार्टी को सत्ता में आने के लिये दूसरे समुदायों को भी अपने साथ जोड़ना पड़ता है, लेकिन क्या यह जरूरी है कि “सेकुलर कैबरे” करते समय अपने प्रतिबद्ध वोटरों और कार्यकर्ताओं को नज़र-अंदाज़ किया जाये? कांग्रेस की बात अलग है, क्योंकि उसकी तो कोई “विचारधारा” ही नहीं है, लेकिन भाजपा तो एक विचारधारा आधारित पार्टी है फ़िर कैसे वह अपने ही समर्पित कार्यकर्ताओं को भुलाकर अपनी मूल पहचान खो बैठी।
    • भाजपा के प्रतिबद्ध वोटर जब नाराज होते हैं तब वे वोट नहीं करते, क्योंकि कांग्रेस को तो गिरी से गिरी हालत में भी दे नहीं सकते, और कार्यकर्ताओं का यह “वोट न देना” तथा ज़ाहिर तौर पर अन्य मतदाताओं को वोट देने के लिये प्रेरित न करना भाजपा को भारी पड़ जाता है, कुछ-कुछ ऐसा ही इस चुनाव में भी हुआ है। जो पार्टी अपने खास वोटरों को अपना बँधुआ मजदूर समझती हो और उसे ही नाराज करके आगे बढ़ना चाहती हो, उसका यह हश्र हुआ तो कुछ गलत नहीं हुआ।