Friday, July 24, 2009

Andhra High Court stays state funding of Christian pilgrimage - National Issue |

  • tags: no_tag

    • On the same line, Indians should also protest against Central Govt. who gives big subsidy for Haj pilgrims. And same Congress Govt. is not even ready to protect Hindu Pilgrims in Amarnath!
    • In an interim order with far-reaching consequences, the Andhra Pradesh high court on Wednesday directed the state government not to extend financial assistance for pilgrimages undertaken by members belonging to "all religions" to visit holy places.
    • Hyderabad (Andhra Pradesh)
    • Dealing with two separate petitions, the court set aside a state government order granting aid to pilgrims bound for Jerusalem; three batches of pilgrims have availed of the subsidy. The state government has also prepared an order to provide assistance to pilgrims bound for Manasarovar and is drawing up guidelines for this.

Goa: SpecialSquad will investigate only cases related to Idol-breaking - Goa temples destruction |

Muslims denigrate ‘Shiva-linga’ in Akola - Hindu Deities |

  • tags: no_tag

    • Akola (Maharashtra)
    • Fanatic Muslims burst in Sopinath Temple and denigrated Shiva-linga, idol of ‘Nandi (the vehicle of Lord Shiva)’ and the trident while raising slogans of ‘Allah Ho Akbar’. They also attacked brutally the priest of the temple.
    • A gang of 10-15 fanatic Muslims went to the temple on Tuesday in the evening and started beating up Seetaram Chavan, the priest.

शिनजियांग का सबक - Jagran - Yahoo! India - Opinion News

  • tags: no_tag

    • कम्युनिस्ट चीन की सेंसरशिप के कारण दुनिया को शिनजियाग संकट की वास्तविक हालत का पता नहीं है, किंतु तुलना करे तो शिनजियांग चीन का कश्मीर है। कश्मीर में मुस्लिम अलगाववाद की जिस समस्या से भारत दो-चार हो रहा है, ठीक वैसी ही स्थिति से 1949 में चीन को भी त्रस्त होना पड़ा था।
    • कश्मीर पर पाकिस्तान ने जब आक्रमण किया तब तत्कालीन प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू ने प्रारंभ में ढुलमुल रवैया अपनाए रखा। तत्कालीन गृहमंत्री सरदार पटेल के हस्तक्षेप के कारण भारतीय सेना ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया। अधिकांश कश्मीर से पाकिस्तान को खदेड़ भगाया गया, परंतु पं. नेहरू ने अचानक भारतीय सेना के पांव में बेड़ियां डाल दीं। कार्रवाई रोक देने के कारण पाक के कब्जे में कश्मीर का कुछ क्षेत्र रह गया। वह पाक अधिकृत कश्मीर आतंकवाद की पौधशाला बना हुआ है। दूसरी बड़ी गलती इस मसले को संयुक्त राष्ट्र संघ में उठाना था। इस अदूरदर्शिता के कारण कश्मीर समस्या वस्तुत: एक अंतरराष्ट्रीय मसला बन गया है। इसके ठीक विपरीत चीन ने उइगर मसले को अंतररष्ट्रीय बिरादरी के हस्तक्षेप से दूर रखने की हरसंभव कोशिश की।
    • कश्मीर को अपना अंग बनाए रखने के लिए भारत को भारी कीमत चुकानी पड़ रही है। भारत के अन्य राज्यों को दिया जा रहा प्रति व्यक्ति केंद्रीय अनुदान 1,137 रुपये है, जबकि कश्मीर को 8,092 रुपये की दर से अनुदान मिल रहा है। यदि कश्मीर की कुल आबादी को पांच व्यक्तियों वाले परिवार में विभक्त करे तो प्रति परिवार यह राशि 40,460 रुपये प्रति वर्ष बैठती है।
    • [बलबीर पुंज : लेखक भाजपा के राज्यसभा सदस्य है]

IntelliBriefs: Unrest in Xinjiang: Birds coming home to roost for China

  • tags: no_tag

    • by Mohan Guruswamy
    • Historically, India had many other linkages with Turkestan. These links were snapped after China annexed both Xinjiang and Tibet after the Communists seized power in Beijing in 1949.

      Like Tibet, Xinjiang also had a troubled relationship with China
    • In the recent years the Government of India has been active in Ladakh. It has begun to build a motorable road that will link Leh via Nubra with the far-flung Daulet Beg Oldi. It has also recommissioned the airfield at DBO to receive larger aircraft. DBO overlooks the Karakorum Pass that is linked by motorable roads to Kashgar and Khotan. It is obviously hoped that one day modern caravans will ply these roads and re-establish the lost economic linkages with Xinjiang.
    • Many Uighurs speak a bit of Urdu due to the burgeoning relationship developed with Pakistan after the construction of the Karakorum highway. Urumqi has several restaurants that advertise themselves as serving Pakistani food.

      There is also another unintended but nevertheless burgeoning Pakistan connection. Well-known Pakistani terrorist outfits like the Lashkar-e-Toiba and the Jamaat-ul-Dawa have trained no less than 4000 Uighurs to wage jihad in their homeland. The ISI connection with these outfits is well known.
    • Since missiles can be made to point anywhere, the Chinese now fear the takeover of Pakistan by the jihadis as much as India or the US. So much for Chinese foresight.
    • The East Turkestan Freedom Movement predates the clandestine war on Soviet-controlled Afghanistan by an axis of the US, Saudi Arabia, Pakistan and China. This axis even orchestrated attacks on the Turkic underbelly of the former Soviet Union. One fallout of this unholy alliance is the advent of Wahabi Islam in the Turkic regions which hitherto mostly adhered to the Sufi traditions of Islam.

      If what the Chinese claim about Al-Qaeda is true, then it is just a case of the birds coming home to roost.
    • The writer is President, Centre for Policy Alternatives, New Delhi.

India Today Better Stick to Sex Surveys at Seriously Sandeep

  • tags: no_tag

      • Here’s one of the secular media templates on writing opinion pieces about the BJP:

        1. As elections draw near, run a smear campaign. Insinuate that a BJP win looks bleak due to blah blah blah blah.
        2. If it wins, yell murder and suddenly “discover” sstories of this or that lobby, defections, and how in large regions of the state, the Hindu vote was aggressively mobilized, etc.
        3. A few months down the line, say the BJP government is riddled with internal dissession.
        4. If #3 doesn’t work, fall back on the trusted trump card: RSS, VHP, new Hindutva laboratory (for everything else there’s Gujarat and Modi), and how minorities feel unsafe… (aside: I could work in the secular media and retire rich and early).

        These are thoroughly predictable because their banality is so transparent. However, once in a while there’s an article that so completely abandons even a pretence of neutrality that it necessitates VIP treatment. I was mildly surprised that a thoroughly despicable piece appeared in India Today, which used to carry some decent pieces till just a few years ago. The tone, tenor, and content of the piece is so vile that we don’t know where or how to begin dissecting it.

If only the rest of India was as pragmatic as the Gujaratis. « Hindu focus

  • tags: no_tag


      Swaminathan S Anklesaria Aiyar, ET Bureau

    • When Narendra Modi won the 2007 state election in Gujarat, the media focused on Hindu-Muslim issues. Some journalists highlighted rapid industrial development that had made Gujarat India’s fastest-growing state. I mentioned Gujarat’s successful port-led development.
    • However, an excellent new study suggests that the secret of Modi’s success lay in agriculture, an area completely neglected by political analysts. Ashok Gulati, Tushaar Shah and Ganga Sreedhar have written an IFPRI paper, ‘Agricultural Performance in Gujarat Since 2000’, which highlights something few people know — that Gujarat’s agricultural performance is by far the best in India.
    • During the 2007 election campaign, the Congress slogan was ‘chak de, chak de Gujarat’. I heard Modi say at a rally that his reply was “check dam, check dam Gujarat.
    • He declared that Gujarat was now famous in China as the producer and exporter of Bt cotton, and he said this was a source of Gujarati pride. (Let me add that this is a great improvement on his earlier notion of Hindu pride, exemplified in his ‘gaurav yatra’ after Godhra).
    • Can this be replicated in other states? Much of it can. Jyotigram looks least likely to be replicated because it abandons the free-but-unreliable rural power that politicians regard as vote-winners in most states. Many states also prefer large irrigation projects to small water-harvesting ones, since bigger projects translate into bigger kickbacks. Yet Modi’s electoral success points to a new way of winning rural votes. Others should sit up and take notice.

राजशाही के समर्थन में उठने लगी है आवाज - Jagran - Yahoo! India - International :: Politics News

  • tags: no_tag

    • नेपाल में लोकतंत्र के लड़खड़ाते कदमों को एक और झटका लगा है। 240 साल पुराने राजतंत्र को खत्म हुए एक साल ही गुजरे हैं कि नरेश समर्थक एक पार्टी ने देश में राजतंत्र की बहाली व नेपाल को फिर हिंदू राष्ट्र बनाने के मुद्दे पर जनमत संग्रह कराने के लिए अभियान चलाने की मांग की है।

      राजधानी काठमांडू के मध्य में स्थित बसंतपुर दरबारस्क्वायर में करीब 1500 लोगों की मौजूदगी में राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी [आरपीपी-नेपाल] के अध्यक्ष कमल थापा ने इस मुद्दे पर जनमत संग्रह का आह्वान किया।

Is Kasab trying to show he is mentally ill?: news

इस बार बस स्नान करने तक ही सिमटा मेला

  • tags: no_tag

    • कुरुक्षेत्र
    • सूर्यग्रहण मेला बेशक 22 को बिछुड गया, लेकिन गुरुवार को भी हजारों श्रद्धालु धर्मनगरी में जुटे रहे, लेकिन प्रशासन की तरफ से सिर्फ सूर्यग्रहण के दिन तक के लिए ही इंतजामात किए गए थे। शहर में इतने श्रद्धालुओं के बावजूद कोई सुरक्षा प्रबंध नहीं दिखे।
    • कई आटो चालकों ने श्रद्धालुओं से धर्मनगरी भ्रमण के लिए 300 से लेकर 500 रुपए तक मनमाना किराया वसूला। उधर बुधवार दोपहर को ही पुलिस सुरक्षा हटने से अफरा-तफरी का आलम रहा।
    • लोगों का कहना था कि वीआईपी आगमन को लेकर घंटों पहले खड़ी होने वाला पुलिस प्रशासन इतनी भीड़ को लेकर गंभीर नहीं दिखा।

    • सूर्यग्रहण मेला कभी दस दिन पहले ही शुरू जाता था और बाद में भी कई दिन तक मेला लगा रहता, लेकिन इस बार मेला सिर्फ स्नान तक सिमट गया। मेले में झूले और सर्कस गायब रहे
    • जानकारों का कहना था कि प्रशासन सुरक्षा कारणों के चलते यह नहीं चाहता था कि ज्यादा दिन मेला चले। पिछले सूर्यग्रहण पर भी मेला दो दिन का था तो इस बार भी 21 व 22 जुलाई तक मेला रखा गया। प्रशासनिक अधिकारियों ने यही तर्क दिया कि सूर्यग्रहण पर सिर्फ स्नान का महत्व है, लिहाजा लाखों लोगों के लिए स्नान की बेहतर व्यवस्था की गई।
    • केयू से सेवानिवृत प्रोफेसर एवं पर्यावरणविद् डा. रोहताश गुप्त का कहना है कि सूर्यग्रहण मेला कई संस्कृतियों का मिलन होता था। चाहे वह श्रद्धालु हो या कलाप्रेमी अथवा धर्मप्रेमी, विचारक, बुद्धिजीवी हर कोई कई दिन पहले ही यहां जुट जाते थे। इस तरह आपसी सौहार्द भी बढ़ता था, लेकिन अब इस मेले का स्वरुप ही बदल दिया गया है।
    • इस बार मध्य प्रदेश, बिहार और गुजरात से ढेड़ से दो लाख तीर्थ यात्री आए। जो अपने आप में एक रिकार्ड कहा जा सकता है।

No harm in talking to the ISI: news

  • tags: no_tag

    • B Raman
    • It may be recalled that Ajmal Kasab [ Images ], the sole surviving terrorist of the Mumbai attacks, had reportedly told interrogators that the original target date for the attacks was in September, but the Lashkar-e-Tayiba [ Images ] postponed it for reasons not known to him. Taj was still the ISI chief at that time.

      The inference from this was that the conspiracy for the attack was drawn up by the Lashkar, with the knowledge if not at the instance of the ISI headed by Taj, but when he was replaced under US pressure, the ISI withdrew from the conspiracy. The Lashkar went ahead with the plot without the ISI's further involvement.

    • From all this, it is evident that there is active lobbying -- if we do not want to use the word pressure -- for a liaison relationship between the ISI and an appropriate Indian intelligence agency. The US seems to be playing a role in this exercise.
    • There is no harm in our giving a try to the idea of an informal, clandestine one-to-one liaison relationship between the ISI and R&AW. We should not have any illusions that it would result in a sharing of actionable intelligence. Intelligence agencies share actionable intelligence only when they have common State and non-State enemies. India and Pakistan do not have common enemies.

      Even countries, which do not have an adversarial relationship, do not sincerely share all intelligence. They pick and choose depending on their national interest.

    • In the cae of all liaison relationships there is a danger of the other intelligence agency trying to mislead by planting false intelligence. This danger will be very high in the ISI's case. It could create alienation between the Government of India and our Muslim community by planting false intelligence about selected members of the Indian Muslim community, particularly about those it does not like.

Jagran - Yahoo! India - नई आशाओं की जीत

  • tags: no_tag

    • जानकार लोगों का कहना है कि सैकड़ों वर्ष पहले भारत, खासकर गुजरात से हजारों भारतीय इंडोनेशिया व्यापार के सिलसिले में गए थे और बाद में वहीं बस गए। जो लोग भारत से इंडोनेशिया गए थे वे मुख्यत: बौद्ध और हिंदू थे। बाद में जब दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों में इस्लाम ने जोर पकड़ा तो ये सभी मुसलमान हो गए, परंतु इंडोनेशिया के मुसलमान आज भी अत्यंत ही उदारवादी है। आज भी वहां के बाली द्वीप में हिंदू मंदिर है। वहां हिंदू देवी-देवताओं की पूजा होती है और पूरे इंडोनेशिया में लोगों के नाम भारतीय लोगों के नाम पर रखे जाते है।
    • इसमें कोई संदेह नहीं कि युधोयोनो के दोबारा राष्ट्रपति निर्वाचित होने से इंडोनेशिया की राजनीति में आमूल-चूल परिवर्तन आएगा। इंडोनेशिया की देखादेखी एशिया के दूसरे देशों के राजनेता भी यह महसूस करेगे कि राजनीति में अंत में जीत उसी व्यक्ति की होती है जिसकी छवि स्वच्छ हो और जिसने जन कल्याण के लिए भरपूर प्रयास किया हो। भारत के लिए सबसे अधिक संतोष का विषय यह है कि युधोयोनो ने अपने देश में अल-कायदा और तालिबानों को पनपने नहीं दिया। उन्होंने खुलकर कहा कि इंडोनेशिया में कट्टरपंथियों के लिए कोई स्थान नहीं है।

      [डा. गौरीशंकर राजहंस: लेखक पूर्व सांसद एवं पूर्व राजदूत है]

India's roller-coaster policy on Pakistan - Windows Live

  • tags: no_tag

    • Brahma Chellaney
    • After all, India is being uniquely targeted not just by non-state actors (NSAs), but by state-sponsored non-state actors (SSNSAs), with Singh himself having admitted earlier that some Pakistani official agencies must have supported” the Mumbai attacks.

      Like his predecessor, Atal Bihari Vajpayee, Singh has taken India on a roller-coaster ride on counterterrorism, with an ever-shifting policy course on Pakistan. His latest U-turn on Pakistan, however, parallels the manner he pushed through the controversial nuclear deal with the US. In both cases, he broke his solemn assurances to Parliament. Also, like the nuclear deal, Singh’s decision to delink talks with Islamabad from Pakistani action against terrorism was the product not of institutional thinking but of personal choice. Yet another parallel is that the PM has himself moved the goalpost to help cover his concessions. And just as he tried to spin the reality on the terms and conditions of the nuclear deal, Singh has turned to casuistry to camouflage his shift on Pakistan.

वीएचपी का होमसेक्सुअलिटी के खिलाफ अभियान - khaskhabar

  • tags: no_tag

    • विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की भोपाल शाखा ने होमेसेक्सुअलिटी के खिलाफ अभियान चलाने की नीति बनाई है। हालांकि अभी यह विरोघ प्रतीकात्मक तरीके से किया जा रहा है, लेकिन वीएचपी के केंद्रीय समिति की हरी झंडी मिलने पर भोपाई के कार्यकर्ता सडक पर उतरकर समलैंगिकता की कानूनी मान्यता का जोरदार विरोघ करने की तैयारी कर रहे है। भोपाल शाखा के विभागीय अघ्यक्ष दिलीप खंडेलवाल ने इस संबंघ में बताया कि अभी प्रतीकात्मक विरोघ के तौर पर हमने भोपाल के लोगों को जागरूक करने के लिए पूरे शहर भर में "अगर तेरा बाप समलैंगिक होता.. तो तू पैदा नही होता" के पोस्टर्स लगाए है। उन्होंने समलैंगिकता को विदेशी बीमारी करार देते हुए भारतीयों से इससे सावघान रहने की अपील की है।
      साथ ही खंडेलवाल ने समलैंगिकता को सामाजिक अपराघ बताते हुए इसे रोकने की पुरजोर वकालत की है। उन्होंने कहा कि यह विदेशी बीमारी भारत की पारिवारिक व्यवस्था को बर्बाद कर देगी। उन्होंने कहा कि वीएचपी कार्यकर्ता इस तरह की शादियां नही होंने देंगे।

India lacks killer instinct, says Mumbai top cop: news

  • tags: no_tag

    • Mumbai Police Commissioner D Sivanandan has said unlike Israel, which immediately reacts to any terror attacks, India lacked the killer instinct against those who carry out such attacks.

      "Since thousands of years, we have been passively witnessing all terror attacks. We never went to fight with anybody. That's what our main problem is and we lack the killer instinct," he said.

      "We cannot go and wage a war against Pakistan, China or anybody else. But Israel never keeps quiet. Israelis go on their flights, bombard the fellows (enemies), come back and keep quiet. But when we become aggressive, we face international pressure," Sivanandan, who has recently been appointed Mumbai's police commissioner, said.

भाजपा की बस का ‘स्टीयरिंग फिक्स’ और ‘ब्रेक फेल’

  • tags: no_tag

    • जयपुर
    • विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल के सदस्य आचार्य धर्मेद्र ने कहा कि ‘जिन्ना को धर्मनिरपेक्ष घोषित करने के आडवाणी के फतवे ने हिंदुत्व के आंदोलन और भाजपा को पतन की ओर लुढ़क रही सत्तालोलुपता की ऐसी बस में बिठा दिया है, जिसका स्टीयरिंग फिक्स और ब्रेक फेल हैं।’

      उन्होंने कहा है कि ‘सत्ताकामी महापुरुष’ आडवाणी को ‘जिन्ना की मजार पर नहीं, अब नागपुर में समाधि स्थल पर जाकर निर्मल मन से प्रायश्चित’ करना होगा। उन्होंने जहां कांग्रेस नेता सोनिया गांधी की तारीफ की, वहीं भाजपा नेताओं को पतंगों तक की संज्ञा दी।

    • धर्म्ेद्र ने ‘पावन परिवार’ के ताजा अंक में ‘नहीं, यह हिंदुत्व की पराजय नहीं’ और ‘वरुण विस्फोट पर निठल्ला चिंतन’ लेखों में कहा है : ‘हिंदुत्व को सुविधानुसार ओढ़ लेने और सत्ता सुख के लिए समयानुसार छोड़ देने की नवविकसित बीजेपी कल्चर ने भाजपा को केसर से कचरा बना दिया है।’

      उन्होंने कहा है : विदेशी सोनिया गांधी ने तो लोकसभा में ईश्वर के नाम पर हिंदी में शपथ ली, लेकिन भाजपा के शाहनवाज हुसैन ने अल्ला के नाम पर उर्दू में शपथ ली। उन्होंने भाजपा के मुस्लिम नेताओं को ‘शो केस के पुतले’ बताते हुए कहा कि शाहनवाज हुसैन, मुख्तार अब्बास नकवी और सिकंदर बख्त तीनों ने हिंदू कन्याओं से निकाह किया, लेकिन तीनों ही किसी हिंदू प्रत्याशी को मुस्लिम वोट नहीं दिला पाए

'We wanted to create a little India': news

  • tags: no_tag

    • now, in the middle of a cornfield on the outskirts of Maple Grove and close to the twin cities of St Paul and Minneapolis, a huge Hindu temple stands majestically. It has become a spiritual magnet for more than 30,000 Hindus in the state and the neighbouring five states, including North and South Dakota and a part of Wisconsin. Its unique features include 21 deities housed under one roof, and the main deity of Lord Vishnu in an unusual posture -- at least for North America. 
    • But just two months before the temple became functional, vandals broke into the building, dismembered stone statues and made deep holes in walls and windows in the first quarter of 2006.

      Two 19-year-olds pleaded guilty to damage worth about $250,000. The temple authorities requested the court to give them suspended sentence; the young men were ordered to do volunteer work at the temple. They said their act stemmed from 'foolishness.' They were forgiven in a ceremony at the temple.

I will continue to be critical of Ramayana: Karunanidhi | रामायण की आलोचना करता रहूंगा: करुणानिधि - Oneindia Hindi

  • tags: no_tag

    • तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि ने भगवान राम के अस्तित्‍व पर सवाल खड़े करते हुए एक नया विवाद पैदा कर दिया है। यही नहीं उन्‍होंने कहा है कि वो हमेशा से रामायण के आलोचक रहे हैं और आगे भी रामायण की आलोचना करना जारी रखेंगे।

      करुणानिधि ने यह बात केंद्रीय कानून मंत्री एम वीरप्‍पा मोइली की किताब 'रामायण पेरूंथेदलै' (यानी रामायण की तलाश) का विमोचन करने के बाद कही।
    M Karunanidhi
    • करुणानिधि ने कहा कि मोइली की यह किताब रामायण के मूल संस्करण से अलग है और इसमें मोइली ने निर्भयतापूर्वक अपने विचार व्यक्त किए हैं। इस मौके पर मोइली ने कहा कि उनकी किताब सिर्फ रामायण का वर्णन नहीं है, बल्कि इसमें हर पेज में पाठकों के लिए एक संदेश है।

School where Muslim kids are happy to sing Hindu hymns- Hindustan Times

  • tags: no_tag

    • Indore
    • Sanskrit verses are part of the daily prayer for Mantasha Khan (class IX), Inayat Ali (class VIII), Jofisha Khan (class IV) and 30 other Muslim students who study at the Shaishvika Vidyalaya, a high school with 269 students run by the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS).
    • And their parents never objected. One of the parents —Shakil Khan —has been encouraging his community members to send their children to this school, founded in 1975. And the results are encouraging. In 1996, it had four Muslim students. This year, out of 50 students who got admission, 25 were from minority community.
    • “None from our community has problems sending children to the RSS school. They are gaining knowledge. The school fee is reasonable (Rs 400 a month). And teachers impart good values. Students there are cultured,” remarked ex-student and cloth merchant Lal Ali, 38, whose sons Fashil and Kamran study in the school.
    • Another ex-student and award-winning painter Riyazuddin Patel says, “My ideology has matured after studying there. What I learned is discipline, which is akin to the RSS.”

      Not that city’s other RSS-run schools don’t have minority students but Shaishvika Vidyalaya has the most. The management didn’t face any problems from parents even though the school is surrounded by Muslim-dominant localities.

» Blog Archive » एयर इंडिया आखिर दीवालिया क्यों हुई?

  • tags: no_tag

    • आलोक तोमर
      डेटलाइन इंडिया
    • मगर कुछ भी कर ले एयर इंडिया एक बड़े खर्चे से नहीं उभर सकती। ये खर्चा विमानों की उस खरीद का है जिसका सौदा एयर इंडिया कर चुकी है और यह सौदा 68 बोइंग विमान खरीदने का है और इसके लिए 12 अरब डॉलर खर्च किए जाने हैं। जब यह खरीद का आदेश दिया गया था तब भी एयर इंडिया घाटे में थी मगर संसार के विमानन इतिहास के इस एक सबसे बड़े सौदे में यह भी शामिल है कि अगर सौदा रद्द किया गया या इसमें देरी की गई तो अग्रिम दिए गए तीन अरब डॉलर जब्त हो जाएंगे। यही झटका इतना बड़ा है कि एयर इंडिया का काम धाम लंबे समय तक के लिए रूक जाएगा। वैसे भी वेतन देने में एयर इंडिया दो महीने पीछे चल रही है।

Naomi Campbell’s first Bollywood venture attacked by Hindus

  • tags: no_tag

    Naomi campbell
    • Washington
    • Supermodel Naomi Campbell’s first Bollywood film Karma, Confessions and Holi opened with dreadful reviews in India with Hindus branding the film "undignified disaster” and an "unholy mess”.


      The film, directed by Manish Gupta and co-produced by Robert De Niro’s daughter Drena, has bombed badly at the box office.

» Blog Archive » पच्चीस साल पाक जेल में और बाकी भारत में

  • tags: no_tag

    • अक्षय कुमार
      डेटलाइन इंडिया
    • भारत सरकार का एक जासूस था। पाकिस्तान में पकड़ा गया तो पच्चीस साल वहां की जेलों में यातना सह कर वापस लौटा।
    • तस्करी का एक झूठा  मामला बना कर उसे जेल में डाल दिया गया और पहले वह पाकिस्तान से सजा पा कर और भुगतकर वापस आया था और अब अपनी ही सरकार से न्याय मांगने के लिए वह और उसका परिवार लगातार ठाकरें खा रहा है। ऐसे में जब हम सरबजीत की फांसी माफ करवाने के लिए पाकिस्तान सरकार पर दबाव बना रहे हैं, अपने देश में ही अपने देश के लिए काम करने वालों और जान जोखिम में डालने वालों के साथ हमारा सलूक अचंभे में डालता है।

Organiser - Making a Kashmir in Murshidabad, W. Bengal! Fanatics plan to make Murshidabad and South 24 Parganas all Muslim districts

  • tags: no_tag

    • Making a Kashmir in Murshidabad, W. Bengal!
      Fanatics plan to make Murshidabad and South 24 Parganas all Muslim districts

      By Ranjit Roy
    • Muslim students and teachers had demanded their right to offer namaz inside school premises on Fridays. When refused, Muslims attacked and looted Hindu shops and houses and stabbed people only to terrorise Hindu community so that they are forced to flee from the two Muslim-dominated districts. This was exactly the strategy of Muslim League before the Partition.
    • No doubt, a deep rooted conspiracy has been hatched in these two Muslim majority districts bordering Bangladesh to make them exclusive Muslim districts so that the areas could be a part of Islamic Bangladesh.
    • (VSK, Kolkata) । विस्फोट.कॉम - अंग्रेजी कबूल है जनाब!

  • tags: no_tag

    • अनिल अत्रि
    • पिछले दिनों करीब-करीब एक साथ दो घटनाएं ऐसी घटीं, जिनसे लगा कि पहले जो अभियान हिंदी के खिलाफ आजादी के बाद से ही चलता आ रहा है, वह अब उसके साथ-साथ भारतीय भाषाओं के खिलाफ भी शुरू हो गया है। पहला मामला देश के अति प्रतिष्ठित कहे जाने वाले जेएनयू का है, जहां अध्‍ययन के लिए दाखिला देने गए छाञों से यह कहा गया कि वह हिंदी में पढ़ाई नहीं कर सकेंगे। यही नहीं उन्‍हें यहां तक कह दिया गया कि जब अंग्रेजी नहीं आती तो जेएनयू क्‍यों चले आते हो? बिना अंग्रेजी के जेएनयू का सपना भूल जाओ। जबकि दूसरे मामले में देश के उच्‍चतम न्‍यायालय स्‍कूलों में मातृभाषा पढ़ाए जाने के एक मामले की सुनवाई के दौरान कहा है कि यदि मातृभाषा पढ़ने वाले बच्‍चे क्‍लर्क भी नहीं बन सकते। यह दोनों घटनाएं ऐसी हैं, जो यह बताने के लिए काफी हैं कि इस देश को आजादी भले 1947 में मिल गई हो लेकिन मानसिक तौर पर वह आज भी गुलामी में जी रहा है।

BAMULAHIJA : Cartoons on Indian/ International Politics & Current Affairs by Kirtish Bhatt: कार्टून : ओये यार !!! ....यहाँ तो हंसने को ही नही मिलता !!!

महाजाल पर सुरेश चिपलूनकर (Suresh Chiplunkar): “सेकुलर” समाचार बनाने की “कला”(?) और असल खबर के बीच का अन्तर… Anti-Hindu Media, Murshidabad Riots and Pseudo-Secularism

  • tags: no_tag

    • ऐसे सैकड़ों समाचार आप रोज़-ब-रोज़ अखबारों में पढ़ते होंगे, यह है “सेकुलर” समाचार बनाने की कला… जिसका दूसरा नाम है सच को छिपाने की कला… एक और नाम दिया जा सकता है, मूर्ख बनाने की कला। क्या आप इस समाचार को पढ़कर जान सकते हैं कि “दो गुट” का मतलब क्या है? किन दो ग्रामीणों की मौत हो गई है? पुलिस पर पथराव क्यों हुआ और डीएसपी रैंक का अधिकारी कैसे घायल हुआ? “बाहरी तत्व” का मतलब क्या है? स्कूल में छात्रों की पिटाई किस कारण से हुई? “शान्ति बैठक” का मतलब क्या है?… यह सब आप नहीं जान सकते, क्योंकि “सेकुलर मीडिया” नहीं चाहता कि आप ऐसा कुछ जानें, वह चाहता है कि जो वह आपको दिखाये-पढ़ाये-सुनाये उसे ही आप या तो सच मानें या उसकी मजबूरी हो तो वह इस प्रकार की “बनाई” हुई खबरें आपको परोसे, जिसे पढकर आप भूल जायें…
    • लेकिन फ़िर असल में हुआ क्या था… पश्चिम बंगाल की “कमीनिस्ट” (सॉरी कम्युनिस्ट) सरकार ने खबर को दबाने की भरपूर कोशिश की, फ़िर भी सच सामने आ ही गया। जिन दो ग्रामीणों की धारदार हथियारों से हत्या हुई थी, उनके नाम हैं मानिक मंडल और गोपाल मंडल, जबकि सुमन्त मंडल नामक व्यक्ति अमताला अस्पताल में जीवन-मृत्यु के बीच झूल रहा है। त्रिमोहिनी गाँव के बाज़ार में जो दुकानें लूटी या जलाई गईं “संयोग से” वह सभी दुकानें हिन्दुओं की थीं। “एक और संयोग” यह कि दारपारा गाँव (झाउबोना तहसील) के जलाये गये 25 मकान भी हिन्दुओं के ही हैं।

      झगड़े की मूल वजह है स्कूल में जबरन नमाज़ पढ़ने की कोशिश करना…